Loading...

jati


है ऊँच नीच का रोग जहाँ                                मैं उस देश की गाथा गाती हूँ।                             भारत में रहने वालो की                                   मैं दोगली बात बताती हूँ।।                                भगवानो के नाम यहाँ                                        मूर्ति पूजी जाती है।                                    मंदिर में जाने वालो की                                  यहाँ जाति पूछी जाती है।।                                     शूद्रो से दूर जहाँ                                       भगवान को रखा जाता है।                                   जहाँ इंसानो से भेदभाव                                   पशु को कहते माता है।।                                 ऐसे पाखँण्डी  लोगो का                                      पाँखण्ड मैं बताती हूँ।                                   है ऊँच नीच का रोग जहाँ                             मैं उस देश की गाथा गाती हूँ।।                               नाम धर्म का लेकर जहाँ                                   लोगो का शोषण होता है।                                 कर्महीन इंसान जहाँ                                     भगवान भरोसे सोता है।।                                भगवानो के नाम जहाँ                                     डर फैलाया जाता है।                                     पढा लिखा इंसान जहाँ                                  विवेकहीन हो जाता है।।                                विश्व को कुटुम्ब कहने की                                 हकीकत मैं बतलाती हूँ।                                है ऊँच नीच का रोग जहाँ                               मैं उस देश की गाथा गाती हूँ।।                             दूल्हा नही बैठे घोड़ी पर                              इस पर अगड़ी जाति अडती है।                         बारात निकासी खातिर जहाँ                               पुलिस बुलानी पडती है।।                               विद्या के घर में भी जहाँ                                  जाति से पंक्ति लगती है।                                  दान पुण्य के नाम यहाँ                                   एक ही जाति ठगती है।।                                 धर्म भीरू है लोग जहाँ                                 मैं उसके किस्से बतलाती हूँ।                                है ऊँच नीच का रोग जहाँ                             मैं उस देश की गाथा गाती हूँ।।                              शादी की खातिर जहाँ                                       जाति देखी जाती है।                                  जाति का नाम लेकर जहाँ                                   गाली बोली जाती है।।                                   अछूत प्रेम करने पर जहाँ                                     फाँसी दे दी जाती है।                                     नीची जाति वालो में                                   दहशत फैलायी जाती है।।                                परम्पराओ के नाम जहाँ                                 स्वार्थ का पोषण होता है।                                है ऊँच नीच का रोग जहाँ                              मैं उस देश की गाथा गाती हूँ।।   भूमिका चौहान्

Satlok
9929611308